सुरक्षागार्ड ने बुजुर्ग परिवार को बंधक बनाकर डाली ‌थी डकैती

loktantranews: फरीदाबाद सूरजकुंड के ग्रीनफील्ड कॉलोनी में 16 अगस्त की रात गोल्डी राजीव के परिवार को बंधक बनाकर डकैती मामले में तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर पुलिस ने मामले का पर्दाफाश कर दिया है। तीनों आरोपी मंजीत उर्फ सूरड़ा, सुरेंद्र उर्फ चैंगो, राजेश उर्फ नीटू गांव मनाना समालखा जिला पानीपत के रहने वाले हैं। तीनों आरोपी जुए में 80 लाख रुपये हारने के बाद डकैती की योजना बनाकर ग्रीनफील्ड कॉलोनी के एक घर पर धावा बोला था। जहां से सोने के आभूषण, मोबाइल फोन व कंप्यूटर की हार्ड डिस्क लेकर फरार हो गए थे। पुलिस इन्हें आज कोर्ट में पेश कर रिमांड पर लेकर आभूषण व हथियार बरामद करेगी। पुलिस पीआरओ एसीपी धारणा यादव ने बताया कि इस मामले की जांच क्राइम ब्रांच सेक्टर-30 प्रभारी विमल राय को सौंपी गई थी। जिसने पीड़ित परिवार से पूछताछ के बाद मिले सीसीटीवी फुटेज व कॉल डिटेल के आधार पर तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर 24 घंटे में मामले का पर्दाफाश कर दिया है।उन्होंने बताया कि मुख्य आरोपी मंजीत अपने साले मनोज के साथ एनसीआर के फरीदाबाद व गुरुग्राम में बाउंसर की नौकरी कर चुका है। वह फरीदाबाद के ओमेक्स सोसाइटी में भी बाउंसर की नौकरी कर चुका है। पहले गोल्डी राजीव भी ओमेक्स सोसाइटी में ही रहते थे। ग्रीनफील्ड कॉलोनी में मकान खरीदा तो आरोपी मंजीत को लगा कि इनके पास दो से ढ़ाई करोड़ रुपये मिल जाएंगे। जिससे जुए में हारे हुए पैसों की भरपाई हो जाएगी व कुछ पैसे बच भी जाएंगे। इस वारदात में उसने अपने लाईसेंसी पिस्तौल का उपयोग किया था। आरोपी डकैती से पहले गोल्डी राजीव के भांजे 21 वर्षीय मार्क व मैकी को अगवा करने की योजना तैयार की थी। वह हाल में ही लंदन से पढ़ाई कर लौटा है। जिसे अंजाम देने के लिए आरोपियों ने चार बार कोशिश भी की थी, जिसमें वह विफल रहे थे। इसके बाद मार्क कभी-कभार ही डॉगी को लेकर बाहर निकलता था।

—–

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *