क्लीनिक संचालक की हत्या

loktantranews: जामो कस्बा स्थित घर से शुक्रवार शाम संदिग्ध परिस्थितियों में लापता हुए क्लीनिक संचालक की हत्या उसके दोस्त ने अपने बहनोई के साथ मिलकर कर दी। लेनदेन के विवाद में रॉड से मारने के बाद आरोपियों ने शव को स्कूल परिसर के गड्ढे में डालकर जलाने का प्रयास किया। अधजले शव पर मिट्टी डालकर वहां फूल के पौधे लगा दिए। यह खुलासा पुलिस ने दोनों अभियुक्तों को गिरफतार करने के बाद किया। शव को गड्ढे से निकालकर पुलिस ने पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा है। जामो क्षेत्र के गांव गौरा निवासी जयकरन प्रजापति (40) कस्बे में रहकर क्लीनिक चलाता था। जयकरन शुक्रवार शाम निमंत्रण में जाने की बात कहकर घर से निकला था। रात तक घर न लौटने पर परिवारीजनों ने सूचना पुलिस को दी। शनिवार सुबह उसकी बाइक व मोबाइल जगदीशपुर क्षेत्र के कादूनाला से बरामद हुई। जामो और जगदीशपुर पुलिस के साथ स्वाट व सर्विलांस टीम ने शनिवार देर शाम संदेह के आधार पर जगदीशपुर के गांव पूरेलाला ईश्वरी मजरे मरौचा तेतारपुर के स्कूल संचालक आशीष दुबे को हिरासत में लिया। कड़ी पूछताछ के बाद आशीष ने अपने बहनोई संतोष तिवारी निवासी थुलेंडी थाना बछरावां, रायबरेली की मदद से जयकरन की हत्या कर उसका शव गांव के पास स्थित अपने विद्यालय एआईआरएस शिक्षण संस्थान के परिसर में गड्ढा खोदकर दफनाने की बात स्वीकार की। आशीष की निशानदेही पर पुलिस ने रविवार भोर में शव को गड्ढे से बाहर निकलवाया। शव अधजला था। शव के पास ही लोहे की राड भी मिली जिससे उसकी हत्या की गई थी। पुलिस ने जयकरन के पिता गंगाराम को बुलाकर शव की पहचान कराई।

पुलिस के अनुसार जयकरन अलग-अलग मूल्य की तीन बीसी चलाता था। इस समूह में आशीष समेत 12 लोग थे। 11 फरवरी की शाम 1.20 लाख रुपये की बीसी उठान को लेकर बैठक होनी थी। उससे पहले आशीष ने पैसों की आवश्यकता जताते हुए बीसी देने व उसके द्वारा शुरू की जाने वाली 50 हजार रुपये की नई बीसी में शामिल करने की इच्छा जताई थी। जयकरन ने उससे मना कर दिया था। इस पर आशीष ने जमा किए गए करीब तीन लाख रुपये की मांग की। जयकरन पैसा आशीष के बजाए जामो के रहने वाले एक शिक्षक को 39500 रुपये कम में दे दिया। यह बात पता चली तो आशीष नाराज हो उठा और रिश्तेदार के साथ मिलकर घटना को अंजाम दिया। एसपी दिनेश सिंह ने आरोपियों को गिरफ्तार करने वाली टीम को प्रशस्ति पत्र व पांच हजार रुपये का पुरस्कार देने की घोषणा की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *