कोली और पंढेर को सजा

Loktantranews: निठारीकांड के अंतिम मामले में सीबीआई कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए दुष्कर्म के बाद हत्या करने वाले सुरेंद्र कोली को सजा-ए-मौत की सजा सुनाई है। सह आरोपी मोनिंदर पंढेर को देह व्यापार करने के मामले में सात वर्ष की सजा सुनाई है। अदालत ने उसे हत्या, अपहरण और दुष्कर्म के मामले में बरी कर दिया था। अदालत ने कोली पर 40 हजार और मोनिंदर पंढेर पर चार हजार का अर्थदंड लगाया है।
13 मामलों में फांसी की सजा, तीन में बरी
सुरेंद्र कोली को 13 मामले में सजा-ए-मौत और तीन मामलों में साक्ष्य के अभाव में बरी कर दिया था। अभी तक सिर्फ एक मामले में राष्ट्रपति द्वारा दया याचिका खारिज होने के बाद मेरठ में फांसी दी जानी थी, लेकिन देरी होने से सुप्रीम कोर्ट ने फांसी निरस्त कर दी थी, जबकि एक मामले में हाईकोर्ट ने फांसी में देरी मानते हुए आजीवन कारावास में बदल दिया था। सीबीआई कोर्ट से फांसी की सजा होने के बाद इस समय अधिकांश मामले हाईकोर्ट और सुप्रीमकोर्ट में विचाराधीन हैं।
सीबीआई कोर्ट में अभियोजन पक्ष के सीबीआई के लोक अभियोजक दर्शन लाल ने अदालत को बताया था कि काम की तलाश में गई लड़की के साथ सुरेंद्र कोली ने दुष्कर्म किया। बाद में गले में उसी की चुन्नी बांध कर उसकी हत्या कर दी गई हत्या करने के बाद उसके शव को बाथरूम में ले जाकर कोली ने शरीर से सर को काटकर अलग कर दिया। शरीर के कई टुकड़े कर अलग-अलग पॉलिथीन में बांधकर रख दिया। इसके बाद बची हुई हड्डियों को कोठी के पीछे नाले में फेंक दिया था। किसी व्यक्ति की इस प्रकार निर्मम हत्या बहुत ही क्रूरता का उदाहरण है।
9 सितंबर 2014, सुरेंद्र कोली को मेरठ जेल में फांसी दी जानी थी। कोली को मेरठ जेल की एक हाई सिक्यॉरिटी वाली बैरक में रखा गया। तैयारियां लगभग पूरी हो चुकी थीं। इसी बीच सुरेंद्र कोली की फांसी पर रोक से संबंधित सुप्रीम कोर्ट का ऑर्डर जेल प्रशासन को तड़के तकरीबन 4 बजे मेरठ के डीएम के जरिए मिला। इस बात की जानकारी खुद तत्कालीन वरिष्ठ जेल अधीक्षक मोहम्मद हुसैन मुस्तफा ने दी थी।

16 साल पहले हुआ था खुलासा
29 दिसंबर 2006 को निठारी में मोनिंदर सिंह पंधेर की कोठी के पीछे नाले में पुलिस को 19 बच्चों और महिलाओं के कंकाल मिले थे, जिसके बाद पुलिस ने मोनिंदर सिंह पंधेर और उसके नौकर सुरेंद्र कोली को गिरफ्तार किया था। बाद में मामला सीबीआई को स्थानांतरित हो गया था।

कुल मामले – 19
तीन में साक्ष्य न मिलने से क्लोजर रिपोर्ट
कुल मामलों में फैसला आया – 16
सुरेंद्र कोली – 13 में सजा-ए-मौत, तीन में बरी
मोनिंदर पंढेर – दो मामले में फांसी, चार में बरी, एक में सात साल कारावास


कब-कब हुई है सुरेंद्र कोली एवं मोनिंदर पंढेर को सजा-ए-मौत

  1. 13 फरवरी 2009 – सुरेंद्र कोली एवं मोनिंदर पंढेर सजा-ए-मौत। हाईकोर्ट से पंढेर बरी
  2. 12 मई 2010 – सुरेंद्र कोली -सजा-ए-मौत
  3. 28 अक्टूबर 2010 – सुरेंद्र कोली – सजा-ए-मौत
  4. 22 दिसंबर 2010 -सुरेंद्र कोली – सजा-ए-मौत
  5. 24 दिसंबर 12 – सुरेंद्र कोली – सजा-ए-मौत
  6. 7 अक्तूबर 2016 – सुरेंद्र कोली – सजा-ए-मौत
  7. 16 दिसंबर 2016 -सुरेंद्र कोली -सजा-ए-मौत
  8. 24 जुलाई 2017 सुरेद्र कोली एवं मो‌निंदर पंढेर – कोली कोसजा-ए-मौत, पंढेर बरी
  9. 8 दिसंबर 2017- सुरेंद्र कोली एवं मोनिंदर पंढेर – दोनों को सजा-ए-मौत
  10. 2 मार्च 2019 -सुरेंद्र कोली एवं मोनिंदर पंढेर – कोली को सजा-ए-मौत- पंढेर बरी
  11. 6 अप्रैल 2019 -सुरेंद्र कोली एवं मोनिंदर पंढेर – कोली को सजा-ए-मौत – पंधेर बरी
    12 16 जनवरी 2021- सुरेंद्र कोली – फांसी
  12. 26 मार्च 2021 -सुरेंद कोली बरी
  13. सात जनवरी 2022 सुरेंद्र कोली बरी
  14. 22 जनवरी 2022 सुरेंद्र कोली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *