चप्पल ने खोला था डी-5 कोठी का राज

Loktantranews: डेढ़ दशक पुराने नोएडा के सबसे चर्चित और खौफनाक निठारी कांड के 14वें मामले में दोषी सुरेंद्र कोली और मोनिंदर सिंह पंढेर को बृहस्पतिवार को सजा सुनाई गई। यह मामला उस लड़की से जुड़ा है जिसकी दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी गई थी। निठारी कांड का खुलासा इसी लापता लड़की की वजह से हुआ था। खुलासा करने वाला कोई और नहीं, बल्कि वही राम किशन था जिसके ढाई साल के बेटे हर्ष को सेक्टर-31 की खूनी कोठी डी-5 में मार दिया गया था।

राम किशन ने बताया कि 29 दिसंबर 2006 की रात सुरेंद्र कोली को हिरासत में लेने के बाद सीबीआई की टीम 7 मई 2006 को लापता लड़की से जुड़े सबूत तलाश रही थी। कोली की निशानदेही पर डी-5 कोठी की चहारदीवारी में पड़ी चप्पल बरामद की जानी थी। इसके लिए मुझे छलांग लगाकर अंदर जाने के लिए कहा गया। जब मैं वहां पहुंचा तो देखा कि कई सारी चप्पलें और कपड़े वहां पड़े थे। मुझे शक हुआ, लेकिन उस समय तो मैं वापस लौट आया, लेकिन देर रात फिर उन लोगों के साथ वहां पहुंचा जिनके बच्चे गायब हुए थे। अंदर काफी सारा मलबा और कबाड़ पड़ा था, जिसे हटाने पर होश उड़ा देने वाली सच्चाई सामने आई। एक के बाद एक कई कंकाल मिलते चले गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *