जिम्स में टाइप वन मधुमेह केंद्र शुरू

Loktantranews:
राजकीय आयुर्विज्ञान संस्थान, ग्रेटर नोएडा में नोवो नोर्डिस्क गलोबल बिजनेस सर्विस इंडिया के सहयोग से 24 मई को मधुमेह रोगियों के उपचार एवं देखभाल के लिए उन्नत मधुमेह उपचार केन्द्र व टाइप-1 मधुमेह केन्द्र का लोकापर्ण किया गया। कार्यक्रम का शुभारम्भ मुख्य अतिथि ले0 जनरल अशोक जिन्दल, आर्मी अस्पताल (रेफरल एवं रिसर्च), दिल्ली, विशिष्ट अतिथि डा0 एस0वी0 मधु, डायरेक्टर प्रोफेसर, सेन्टर फॉर डायबिटीज, एन्डोक्राइनोलॉजी एवं मेटाबोलिज्म, यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ मेडिकल साइन्सेज, नई दिल्ली, मिस लेने हायलिंग एक्सेलसन, कार्पोरेट वाइस प्रेसिडेन्ट, नोवो नोर्डिस्क गलोबल बिजनेस सर्विस इंडिया, संस्थान के निदेशक ब्रिगेडियर राकेश गुप्ता एवं मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा0 सौरभ श्रीवास्तव द्वारा संयुक्त रूप से दीप प्रज्जवलित कर किया गया। मुख्य अतिथि ले0 जनरल अशोक जिन्दल ने लोगों को सम्बोधित करते हुए कहा कि राजकीय आयुर्विज्ञान संस्थान ने अपनी कार्यशैली व मेहनत के दम पर बहुत की कम समय में सफलता अर्जित की है जिसके लिए निदेशक ब्रिगेडियर राकेश गुप्ता बधाई के पात्र हैं। विशिष्ट अतिथि डा0 एस0वी0 मधु ने लोगों को बताया कि मधुमेह का ईलाज समय से किया जाये तो बीमारी को काबू में किया जा सकता है। टाइप-1 मधुमेह रोगियों का उपचार एक जटिल प्रक्रिया है जिसके लिए नियमित देखभाल व अलग-अलग विषयों के विशेषज्ञों की आवश्यकता होती है। इसके अतिरिक्त सबसे जरूरी रोगी को मानसिक रूप से सर्पोट की आवश्यकता होती है जो उसके माता-पिता या अभिभावकों से ही मिल सकती है। निदेशक ब्रिगेडियर राकेश गुप्ता ने बताया कि टाइप-1 के रोगियों की संख्या बहुत ज्यादा है किन्तु जागरूकता के अभाव में लोगों को इस बीमारी का पता ही नहीं चलता जिससे बीमारी गम्भीर रूप धारण कर लेती है। मिस लेने हायलिंग एक्सेलसन ने मधुमेह रोगियों की संख्या को देखते हुए संस्थान को हर सम्भव सहायता एवं उपचार सुविधा उपलब्ध कराये जाने में मदद का आश्वासन दिया। मिस लेने ने कहा कि भारत में टाइप-1 मधुमेह के मरीजों की संख्या बहुत तेजी से बढ रही है जिसके उपचार एवं रोकथाम की तत्काल आवश्यकता है। संस्थान के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा0 सौरभ श्रीवास्तव ने सभी अतिथियों व अगान्तुकों का स्वागत करते हुए कहा कि राजकीय आयुर्विज्ञान संस्थान सामान्य बीमारियों के उपचार के साथ ही पश्चिमी उत्तर प्रदेश में मधुमेह के रोगियों के लिए एक आधुनिक व उन्नत केन्द्र स्थापित कर मधुमेह के अन्य रोगियों के साथ ही विशेष तौर पर टाइप-1 के रोगियों को एक ही स्थान पर जॉच व उपचार के साथ ही मानसिक तौर पर मजबूत बनाये जाने का प्रयास कर रहा है, जिसके लिए गुरूवार को अपरान्ह 2 से 4 बजे तक का समय केवल टाइप-1 के मधुमेह के लिए आरक्षित किया गया है। संस्थान मुधमेह के रोगियों के उपचार के साथ ही मधुमेह के बारे में जागरूकता बढाने के लिए डाक्टर्स को प्रशिक्षित किये जाने का प्रयास कर रहा है। कार्यक्रम का संचालन डी0एन0बी0 रेजीडेन्ट डा0 शाजमीन ने किया। कार्यक्रम के अन्त में डा0 पायल जैन, सह-आचार्य, जनरल मेडिसिन ने सभी अतिथियों का अभार व्यक्त करते हुए कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए धन्यवाद ज्ञापित किया। कार्यक्रम में संकायाध्यक्ष डा0 रम्भा पाठक, संकाय प्रभारी प्रशासन डा0 अनुराग श्रीवास्तव, दिया फाउन्डेशन के श्री हर्ष कोहली व नोवो नोर्डिस्क के डा0 सुचि, श्री दिनाकरन व श्री अशोक राव सहित अन्य संकाय सदस्य व टाइप-1 के कई मरीज भी उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *