थायराइड

बच्चों में भी मिला थायराइड

Loktantranews: थायराइड की समस्या बड़े बच्चों और बड़ों में देखने को मिलती है। लेकिन यह समस्या नवजात शिशुओं को भी प्रभावित करती है। एनआईसीयू में भर्ती बच्चों में थायराइड हार्मोन की समस्या का अध्ययन करने के लिए पीजीआईसीएच, नोएडा के नियोनेटोलॉजी विभाग में एक शोध किया गया हैं।
पीजीआईसीएच, नोएडा के नियोनेटोलॉजी विभाग की विभागाध्यक्ष डॉ रुचि राय द्वारा यह अध्ययन एनआईसीयू में भर्ती उन 200 शिशुओं पर किया जो या तो समय से पहले पैदा हुए थे या बहुत बीमार थे। शोध से पता चला कि इन शिशुओं में थायरॉइड हार्मोन असंतुलित था जो ऐसे शिशुओं के अंतिम परिणाम को प्रभावित कर सकता है। ऐसे शिशुओं में थायराइड हार्मोन के स्तर की कमी उनमें बीमारी की गंभीरता को बढ़ा सकता है। कुछ नवजात शिशुओं में जन्मजात थायराइड हार्मोन की कमी होती है जो उन्हें मानसिक मंदता की ओर ले जाती है। शिशुओं में जन्मजात थायराइड की कमी को जीवन के तीसरे या चौथे दिन किए गए एक साधारण रक्त परीक्षण द्वारा पहचाना जा सकता है और ऐसे में इन शिशुओं पर किसी भी दीर्घकालिक प्रभाव को रोकने के लिए तुरंत उपचार शुरू किया जाता है। किन्तु समय से पहले जन्मे और बीमार बच्चों में यह एकल रक्त परीक्षण इस जन्मजात कमी का निदान करने में सक्षम नहीं हो सकता है। इसलिए जीवन के तीसरे सप्ताह में किया गया एक रिपीट टेस्ट आवश्यक है। शोध में इस बात पर जोर दिया गया है कि सभी समय से पहले जन्म पैदा हुए शिशुओं और बीमार शिशुओं का जन्म के समय थायराइड हार्मोन की स्थिति के लिए मूल्यांकन किया जाना चाहिए और जीवन के 14 से 21 दिनों में दुबारा से किया जाना चाहिए। शोध को प्रतिष्ठित पत्रिका “आर्काइव्स ऑफ एंडोक्रिनोलॉजी एंड मेटाबॉलिज्म” में प्रकाशन के लिए स्वीकार किया गया है। पीजीआईसीएच का उद्देश्य न केवल बच्चों को सर्वोत्तम संभव उपचार देना है बल्कि अच्छी गुणवत्ता वाले शोध करना भी है जिसे राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता दी जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *